JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 | Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur

JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 | Fighter Plane Mig 21 | Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur | Jabalpur Engineering College | JEC Jabalpur get Fighter Plane Mig 21 | JEC students Good News दोस्तों पोस्ट अच्छी लगे तो इसे शेयर किये बिना मत जाइए। इसे JEC Jabalpur के हर छात्र-छात्राओं तक पहुंचाए एवं जबलपुर के नागरिकों को शेयर करें जिससे उन्हें पता चले कि भारतीय वायुसेना के Fighter Plane Mig 21 को जबलपुर में तैनात किया गया है। 

JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21

जबलपुर इंजीनियरिंग काॅलेज (JEC Jabalpur) जबलपुर प्रदेश का सबसे पुराना काॅलेज है जिसकी स्थापना 7 जुलाई 1947 में हुई थी। तब से आज 2022 में JEC Jabalpur काॅलेज को पूरे 75 वर्ष हो चुके हैं और यह आज भी प्रदेशभर में मशहूर है। यहां मध्यप्रदेश के बाहर से भी लोग ग्रेजुएशन के लिए प्रवेश लेते हैं तथा 4 साल यहीं हाॅस्टल में बिताते हैं। Jabalpur Engineering College को 75 वर्ष पूर्ण होने की खुशी में कई जिम्मेदारों ने इस काॅलेज को Technical University बनाने की मांग की है।

Join whatsapp group Join Now
Join Telegram group Join Now
Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur
Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur

आज हम बात करने जा रहे हैं जैसा कि टाइटल से आप लोगों को पता चल ही गया है कि आज हमारी पोस्ट में आपको JEC Jabalpur fighter Plane Mig 21 के बारे में पूरी जानकारी दी जाएगी। दोस्तों भारतीय वायुसेना के Fighter Plane Mig 21 को जबलपुर जिले में प्रदेश के सबसे पुराने और मशहूर काॅलेज Jabalpur Engineering College (जिसे गवर्नमेंट इंजीनियरिंग काॅलेज के नाम से भी जाना जाता है) में तैनात किया गया है। JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 को यहाँ के छात्रों के लिए लाया गया है तथा जबलपुर के सरकारी इंजीनियरिंग काॅलेज (JEC Jabalpur) में प्रतीक के तौर पर रखा गया है।

Fighter Plane Mig 21 को इसी काॅलेज में क्यों तैनात किया गया

बता दें कि यह विमान 2018 में रिटायर हो चुका प्लेन है जिसे यहां लाने का उद्देश्य कोई युद्ध के मोर्चे की तैनाती नहीं है बल्कि सेना के शौर्य और पराक्रम की कहानी सुनाने के साथ इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे छात्रों का तकनीकी कौशल बढ़ाने के लिए एक कोशिश है। परंतु अब तो यह सेल्फी पाॅइंट भी बन गया है। JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 को यहां के छात्र-छात्राओें ने इसे सेल्फी पाॅइंट ही बना दिया है जबकि उन्हें समझना चाहिए कि JEC Jabalpur fighter Plane Mig 21 यहां लाने का कारण क्या हो सकता है।

Fighter Plane Mig 21
Fighter Plane Mig 21

JEC Jabalpur fighter Plane Mig 21 is Contribution of DRDO Director

गौरतलब है कि यह वर्ष जबलपुर के गवर्नमेंट इंजीनियरिंग काॅलेज (JEC Jabalpur) का प्लेटिनम जुबली वर्ष है। ऐसे में Fighter Plane Mig 21 मिलने से काॅलेज के खाते में एक और उपलब्धि बढ़ गई है। Jabalpur Engineering College के प्राचार्य डाॅ. ए.के. शर्मा जी ने एक न्यूज में बताया कि इस प्लेन को रक्षा मंत्रालय के DRDO के माध्यम से जबलपुर भेजा गया है। 

JEC Admission process 2023CLICK HERE
Top Books for Engineering 1st year (JEC)CLICK HERE
Artificial Intelligence & Data Science kya haiCLICK HERE
Mechatronics Engineering kya haiCLICK HERE

JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 को कहां रखा गया है

Jabalpur Engineering College के परिसर के बाहर Fighter Plane Mig 21 को स्थापित किया जा चुका है। Jabalpur Engineering College का पूरा पता आप नीचे देख सकते हैं l

JEC Jabalpur Principal : Dr. A.K. Sharma Ji

Phone                               : 076123 31953

Address                            : गोकलपुर, जबलपुर मध्य प्रदेश 482011

Official Website               : www.jecjabalpur.ac.in

यह प्रदेश के सबसे पुराने इंजीनियरिंग काॅलेज (JEC Jabalpur) के लिए गर्व की बात है  और इसे JEC Jabalpur की ऐतिहासिक उपलब्धि भी कहा जा सकता है।

इसे JEC Jabalpur में किस प्रकार से स्थापित किया गया

इस Out of Service Fighter Plane Mig 21 को इलाहाबाद (प्रयागराज) से डी-असेम्बल करके विभिन्न टुकड़ों में जबलपुर लाया गया। यहां Jabalpur Engineering College परिसर में वायुसेना के इंजीनियरों की टीम द्वारा सभी पार्ट्स जोड़कर उसे फिर से तैयार किया गया। इस Fighter Plane Mig 21 को भारतीय वायु सेना द्वारा Jabalpur Engineering College के आवेदन पर भेंट किया गया है। Fighter Plane Mig 21 को प्रदान करने में DRDO के डायरेक्टर डाॅ. सुधीर मिश्रा की महत्वपूर्ण भूमिका रही।

वर्ष 2018 में वायुसेना से रिटायर हो चुका है Fighter Plane Mig 21

जबलपुर में प्रतीकात्मक रूप से तैनात किया जा रहा Fighter Plane Mig 21, 2018 में वायु सेना से रिटायर हो चुका है। इस प्लेन ने वायु सेना के कई मोर्चाें पर बेहतरीन साथ दिया। जबलपुर लाने के पहले इसे इलाहाबाद के एयरफोर्स स्टेशन पर डीअसेम्बल किया गया। फिर इसे कई टुकड़ों में जबलपुर लाया गया। वायुसेना के इंजीनियरों और टेक्नीशियनों की टीम ने इसे फिर से असेंबल किया। JEC Jabalpur महाविद्यालय परिसर में प्रशासनिक ब्लाॅक के सामने पहले से तैयार किए गए प्लेटफाॅर्म पर Fighter Plane Mig 21 स्थापित किया गया।

Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur
Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur

प्राचार्य डाॅ. ए.के. शर्मा के मुताबिक वायुसेना से रिटायर होने के बाद प्रतीकात्मक हो गए Fighter Plane Mig 21 से छात्रों को न केवल तकनीकी ज्ञान होगा बल्कि उनके कौशल में भी बदलाव होगा। इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स भी Fighter Plane Mig 21 आने के आने से बेहद खुश नजर आ रहे हैं। छात्र उसके सामने न केवल सेल्फी ले रहे थे बल्कि वायुसेना की टेक्निकल टीम से उसके बारे में जानकारी भी प्राप्त कर रहे थे।

जाने क्या खासियत है Fighter Plane Mig 21 में

साल 1959 में Fighter Plane Mig 21 सुपरसोनिक लड़ाकू विमान दुनिया में सबसे तेज गति से उड़ान भरने वाले लड़ाकू विमानों में से एक था। दुनिया भर में यह एकलौता विमान है जिसका इस्तेमाल लगभग 60 देशों ने किया। यही नहीं पूरी दुनिया में इसके सबसे ज्यादा (लगभग 11496) यूनिट्स बनाए गए हैं। बताया जा रहा है कि Fighter Plane Mig 21 की ऑपरेशनल कॉस्ट और मेंटिनेंस मैनेजमेंट दूसरे फाइटर जेट्स के मुकाबले में बहुत ही कम है।

यह वही Fighter Plane Mig 21 है जिससे बालाकोट एयरस्ट्राइक में विंग कमांडर अभिनंदन ने पाकिस्तान के एफ – 16 को मार गिराया था। 1971 और 1999 के कारगिल युद्ध में भी इस लड़ाकू विमान ने भारतीय वायु सेना का साथ दिया और दुश्मन के छक्के छुड़ा दिए थे।

हाइलाइट प्वाइंट

  • साल 1959 में Fighter Plane Mig 21 सुपरसोनिक फाइटर एयरक्राफ्ट दुनिया के सबसे तेज उड़ने वाले फाइटर एयरक्राफ्ट में से एक था। 
  • Jabalpur Engineering College campus में प्रशासनिक ब्लाॅक के सामने पहले तैयार प्लेटफाॅर्म पर Fighter Plane Mig 21 को तैनात किया गया।
  • पूरी दुनिया में इसकी सबसे ज्यादा करीब 11496 यूनिट अब तक बनाई जा चुकी हैं।
  • JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 के छात्रों ने इस सेल्फी प्वाॅइंट बना दिया है जबकि उन्हें समझना चाहिए कि JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 को यहां लाने का क्या कारण हो सकता है।
  • इस Fighter Plane Mig 21 को भारतीय वायुसेना द्वारा Jabalpur Engineering College के आवेदन पर पेश किया गया है। इस मामले में डीआरडीओ के निदेशक डाॅ. सुधीर मिश्रा जी ने अहम भूमिका निभाई है।
  • यह वही Fighter Plane Mig 21 है जिससे पाकिस्तान के एफ – 16 को विंग कमांडर अभिनंदन ने बालाकोट एयरस्ट्राइक में मार गिराया था। 

दोस्तों JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 को तो तैनात कर दिया गया लेकिन इसी के साथ एक और खुश-खबरी है कि JEC Jabalpur campus मेंVijayant Tank और ब्रम्होस मिसाइल भी जल्द ही आने वाला है, ये कब आएगा और कहां से आएगा इसके बारे में जानने के लिए दूसरी पोस्ट पर क्लिक करें वहां से आपको इस बारे में पूरी जानकारी मिल जाएगी।

JEC Jabalpur Fighter Plane Mig 21 | Fighter Plane Mig 21 | Fighter plane Mig 21 deployed in Jabalpur | Jabalpur Engineering College | JEC Jabalpur get Fighter Plane Mig 21 | JEC students Good Newsजेईसी से जुडी सभी ख़बरों के लिए हमारी वेबसाइट touseefacademy.com पर रेगुलर विजिट करते रहिये।

WhatsApp GroupClick Here
Telegram GroupClick Here

Leave a Comment